स्पेशल शायरी इन हिंदी

लव शायरी हिंदी में 2022

कितने अजीब होते हैं ना यह मोहब्बत के रिवाज लोग आपसे तुम तुमसे जान और जान से अनजान बन जाते हैं किसी को क्या बताए की कितने मजबूर हैं हम जिसे चाहा सच्चे दिल से आज उसी से दूर हैं हम अब ना तेरे आने की खुशी ना तेरे जाने का गम गुजर गया वह वक्त जब तेरे दीवाने थे हम रोता वही है जिसने महसूस किया हो सच्चे रिश्ते को वरना मतलब से रिश्ते रखने वालों को तो कोई भी नहीं भुला सकता

 दर्द आंखों से निकला तो सब ने बोला कायर है यह जब दर्द लफ्जों से निकला तो सब बोले शायद है यह रुलाते तो सभी है लेकिन अगर कोई तुम्हारे लिए खुद रो पड़े तो उसे कभी खुद से दूर मत होने देना नेक इंसान बनने के लिए वैसे ही कोशिश करो जैसे खूबसूरत दिखने के लिए करते हो वक्त 

  • दर्द शायरी लव

एक जैसा नहीं रहता साहब उन्हें भी रोना पड़ता है जो दूसरों को रुलाते हैं आईना आज फिर रिश्वत लेता पकड़ा गया दिल में दर्द था और चेहरा हंसता हुआ पकड़ा गया रिश्ते कभी जिंदगी के साथ नहीं चलते रिश्ते एक बार बनते हैं

 फिर जिंदगी रिश्तो के साथ चलती है जरूरी नहीं कि पेड़ से जुदा हुई सभी लकड़ी छड़ी बनकर किसी का सहारा बनती है कुछ लकड़ी कुल्हाड़ी की भेंट चढ़ कर उसी पेड़ को काटने वाली भी बन जाती है

 अपने खिलाफ बातें खामोशी से सुन लीजिए यकीन मानिए वक्त बेहतरीन जवाब देगा सब्र और सहनशीलता कोई कमजोरियां नहीं होती है यह तो अंदरूनी ताकत है जो सब में नहीं होती है बिना जोखिम उठाए कुछ नहीं मिलता और जोखिम वही उठाते हैं जो साहसी होते हैं

 हिम्मत मत हारना तुम्हें भी तुम्हारे हिस्से की खुशियां नसीब होगी किसी का बुरा करके खुश मत होना क्योंकि ऊपर वाला जब हिसाब करता है तो वह संभलने तो क्या रोने के लायक भी नहीं छोड़ता है बुराइयां ढूंढने का शौक है तो शुरुआत खुद से ही कीजिए दूसरों से नहीं रिश्ता चाहे कोई भी हो पासवर्ड एक ही होता है विश्वास छोटी सी होती है

 यह जिंदगी इसे हंस कर जियो क्योंकि लौटकर सिर्फ यादे आती है वक्त नहीं अंधेरा वहां नहीं है जहां तन गरीब है अंधेरा वहां है जहां मन गरीब है ना बुरा होगा ना बढ़िया होगा होगा वैसा जैसा नजरिया होगा दुश्मन इतनी आसानी से कहां मिलते हैं बहुत लोगों का भला करना पड़ता है




  • शायरी लव रोमांटिक हिंदी फोटो

 जब तक तुम डरते रहोगे तुम्हारी जिंदगी के फैसले दूसरे लोग ही लेते रहेंगे स्वीकार करने की हिम्मत और सुधार करने की नियत हो तो कोई भी इंसान बहुत कुछ कर सकता है

 दूसरे की गलती निकालने के लिए भेजा चाहिए पर खुद की गलती को कबूल करने के लिए कलेजा चाहिए देने के लिए दान लेने के लिए ज्ञान और त्यागने के लिए घुमान सबसे बढ़िया है किसी से रूठो तो संभल कर रूठना आजकल मनाने का नहीं छोड़ देने का रिवाज है

 खेल सारे खेलना लेकिन किसी की भावनाओं के साथ कभी मत खेलना हर पेड़ फल दे यह जरूरी नहीं किसी की छाया भी बड़ा सुकून देती है मत पूछो शीशे से उसके टूट जाने की वजह उसने भी किसी 

  • रोमांटिक शायरी हिंदी में लिखी हुई

कोई बड़ा हो कोई स्लो हो तो कोई फास्ट हो पर जब किसी के बारे बजाने हो तो सब एक साथ हूं लौटा जब वह बिना जुर्म की सजा पाकर सारे परिंदे रिहा कर दिए उसने घर आकर लोग आईना कभी भी नहीं देखते अगर आईने में चित्र की जगह चरित्र दिखाई देता तो जब कोई नया मिल जाता है तो पुराना रिश्ता ऐसे खत्म हो जाता है जैसे कभी था ही नहीं बुद्धि को अच्छी तरह पता है 

कि क्या अच्छा और क्या बुरा है वह अच्छी बातें सुनकर मगन हो जाती है भाव विभोर हो जाती है लेकिन असली बात तो यह है कि अच्छी बातों को जीवन में उतारा कैसे जाए जब सर पर जिम्मेदारियां बढ़ जाती है तो ख्वाहिशें अपने आप खुदकुशी कर लेती है 

जीवन में पैसा नहीं व्यवहार कमाओ क्योंकि श्मशान में 4 करोड नहीं यार लोग छोड़ने आएंगे जो दूसरों को इज्जत देता है असल में वह खुद इज्जतदार होता है क्योंकि इंसान दूसरों को वही दे पाता है जो उसके पास होता है पता है

 मैं हमेशा खुश क्यों रहता हूं क्योंकि मैं खुद के सिवा किसी से कोई उम्मीद नहीं रखता इंसान को अपनी तकदीर खुद ही लिखनी पड़ती है क्योंकि यह कोई चिट्ठी नहीं है जो किसी से भी लिखवा लोगे हार जाना गलत नहीं लेकिन हार मान लेना गलत है

  • हिंदी में शायरी

 क्योंकि। का मतलब अंत ही नहीं होता है बल्कि एक नई वाक्य की शुरुआत भी होता है आईने के सामने सजदा सवर्ता हर कोई है मगर आईने से साफ जिंदगी जीता कोई नहीं है

 आग के निकट बैठेंगे तो गर्मी फूलों के निकट सुगंध वर्ष के निकट ठंडक उसी तरह जैसे विचारों के व्यक्ति की संगति में बैठेंगे वैसी महसूस था और वैसी स्थिति होने लगेगी बड़ों के द्वारा दिए गए उपदेश चौराहे की लाल बत्ती की तरह हैं जो बुरा मानने के लिए नहीं बल्कि  रोकने के लिए होते हैं 

सब के दिलों में धड़कना जरूरी तो नहीं कुछ की आंखों में खटक ने का भी एक अलग ही मजा है गिरना आसान होता है और गिराना उससे भी आसान होता है लेकिन किसी का हाथ पकड़ कर उसे आगे बढ़ाना बहुत मुश्किल होता है तीन बेहतरीन सलाह सोचो मत शुरुआत करो वादा मत करो साबित करो बताओ मत करके दिखाओ कुछ रिश्ते बस ऑनलाइन होते हैं नेट बंद होते ही टूट जाते हैं

पर कुछ रिश्ते ऑफलाइन होने पर भी आपके साथ रहते हैं फैमिली उन्हीं से बनती है चिंता इतनी मत कीजिए कि काम हो जाए पर इतनी नहीं कि जिंदगी तमाम हो जाए गुस्सा आने पर चिल्लाने के लिए ताकत नहीं लगती गुस्सा आने पर शांत बैठने में ताकत जरूर लगती है

 दूध दही छाछ मक्खन घी सब एक ही वंश के हैं फिर भी सब की कीमत अलग है क्योंकि श्रेष्ठ का जन्म से नहीं बल्कि अपने कर्म कला और गुणों से प्राप्त होती है फूंक मारकर हम मोमबत्ती को बुझा सकते हैं पर अगरबती को नहीं क्योंकि जो महकता है

 उसे कौन बुझा सकता है डोंग की जिंदगी से ढंग की जिंदगी ज्यादा बेहतर होती है अपनी नजर हमेशा उस चीज पर रखो जिसे तुम पा ना चाहते हो उस पर नहीं जिसे तुम खो चुके हो शिक्षक और सड़क दोनों एक जैसे होते हैं खुद जहां है वहीं पर रहते हैं




  • सबसे बेस्ट शायरी

 मगर दूसरों को उनकी मंजिल तक पहुंचा देते हैं खूबी और खामी दोनों ही होती है लोगों में आप क्या तलाशते हैं यह महत्वपूर्ण है जब मंजिल दूर लगे और पग पग पर भी ठोकर लगे तो खुद को दीवार पर चढ़ती नन्ही चींटी समझ लेना जो सौ बार फिसलती है पर हिम्मत नहीं होती हैं अपनी ताकत के बल पर जीना शुरु कीजिए उस को कमजोर कर देती है 

अगर तुम सोचते हो कि तुम समय काट रहे हो तो वह में हो क्योंकि तुम समय काट नहीं रहे बल्कि समय तुम्हें काट रहा है खुश रहना चाहते हैं तो लोगों की बातों पर कम और अपने विचारों पर ज्यादा ध्यान दें अपने आप को अच्छा दिखाने के लिए दूसरों को नीचे मत गिराओ शायद भूल गए हो कि तुम मेहमान हो धरती पर तुम्हारा हिसाब कहीं और होना है सिर्फ आसमान छू लेना ही कामयाबी नहीं है

 असली कामयाबी वह है कि आसमान भी छू लो और पांव भी जमीन पर हो जो बीत गया उस पर बात मत कीजिए और जो बच गया है उसे बर्बाद मत कीजिए जीवन में इतने व्यस्त रहिए कि पछतावा डर दुख नफरत के लिए वक्त ही ना रहे जीवन में खाली व्यक्ति की सबसे अधिक दुखी रहता है

Shayri in Hindi  for SMS friends ship

 इंसान जितना ऑनलाइन होता जा रहा है इंसानियत उतनी ही ऑफलाइन होती जा रही है इत्र मित्र चित्र और चरित्र किसी की पहचान के मोहताज नहीं होते यह अपना परिचय स्वयं ही देते हैं पेड़ पर लगे उन पत्तों की तरह होते हैं पुरुष जिन्हें धूप तो मिलती है पर छांव नहीं मिलती रोज एक नई साजिश रचती है

 अभी हार नहीं मानी है कोई भरोसा तोड़ा तो उसका भी धन्यवाद करें वह हमको सिखाता है कि भरोसा बहुत सोच समझ कर करना चाहिए वक्त सबको मिलता है जिंदगी को बदलने के लिए पर जिंदगी दोबारा नहीं मिलती वक्त को बदलने के लिए याद आना और याद करना दोनों अलग-अलग बातें हैं याद उन्हें करते हैं जो हमारे अपने होते हैं और याद उन्हें आते हैं 

जो हमें अपना समझते हैं किसी भी रिश्ते को कितनी भी खूबसूरती से क्यों ना बांदा जाए गर नजर में इज्जत और बोलने में लिहाज ना हो तो वो टूट जाता है इतनी जल्दी दुनिया की कोई चीज नहीं बदलती है जितना जल्दी इंसान की नियत और नजर बदल जाती है

 वजन बढ़ जाए तो क्या करें तन का बड़े तो व्यायाम मन का बड़े तो ध्यान और धन का बड़े तो दान जैसे उबलते पानी में कभी परछाई नहीं दिखती ठीक उसी प्रकार परेशान मन में समाधान भी नहीं देखते शांत होकर देखिए सभी समस्याओं का हल मिल जाएगा तकलीफ तब नहीं होती जब कोई दुख आते हैं




  • स्पेशल शायरी इन हिंदी

 तकलीफ तब होती है जब उस दुख में कोई साथ नहीं होता सिर्फ समंदर की ही बात नहीं यहां हर शख्स की गहराई में एक कालापन है जिस शरीर के साथ हम पैदा हुए उसके लिए हम जिम्मेदार नहीं लेकिन जिस चरित्र और किरदार के साथ विदा होंगे

 उसके लिए हम खुद जिम्मेदार होंगे साथ ले किसी का इंतजार नहीं करती चलती है या चली जाती है हमारी हार इसमें नहीं है कि कोई दूसरा हमें नहीं पहचानता हार इसमें है कि हम खुद को नहीं पहचान पाते हमारी उपलब्धियों में दूसरों का भी योगदान होता है क्योंकि समुद्र में भले ही पानी अपार है पर सच तो यह है कि वह नदियों का उधार है कुछ इसलिए भी पसंद आते हैं

 सच बोलने वाले लोग क्योंकि वह खुद टूट जाते हैं पर किसी का दिल टूटने नहीं देते मनुष्य सुबह से शाम तक काम करके उतना नहीं थकता जितना क्रोध और चिंता से एक क्षण में थक जाता है गुस्सा कम करें खुश रहे मुस्कुराते रहे अजीब तमाशा है मिट्टी के बने लोगों का यारों बेवफ़ाई करो तो रोते हैं और वफ़ा करो तो रुलाते हैं 

नींद भी नीलाम हो जाती है बाजार ए इश्क में किसी को भूल कर सो जाना आसान नहीं होता मोहब्बत किसी से करनी हो तो हद में रहकर करना वरना किसी को बेपनाह चाहोगे तो टूट कर बिखर जाओगे जिंदगी में जो भी करना है 

खुद के भरोसे और अपने दम पर कीजिए लोगों के भरोसे पर नहीं क्योंकि लोग कंधों पर तभी उठाते हैं जब मिट्टी में मिला ना हो जज्बात वहां जाहिर करो जहां उसकी कद्र हो बाकी तो आंखों से गिरा आंसू भी लोगों को पानी लगता है रोटी से विचित्र कुछ भी नहीं है इंसान कमाने के लिए भी दौड़ता है और पचाने के लिए भी दौड़ता है  


Post a Comment (0)
Previous Post Next Post