दुखी दोस्ती शायरी

जिंदगी दोस्ती शायरी 

वक्त निकाल कर बातें कर लिया करो अपनों से अगर अपने ही ना रहेंगे तो वक़्त का क्या करोगे जिंदगी एक रात है जिस में ना जाने कितने ख्वाब हैं जो मिल गया वह अपना है जो टूट गया वह सपना है मेरी जिंदगी में सारी खुशियां बस तेरे बहाने से आई है कुछ तुझे सताने से आई है कुछ तुझे मनाने से आई है मुझे इस बात का गम नहीं कि बदल गया जमाना मेरी जिंदगी तो सिर्फ तुम हो कहीं तुम ना बदल जाना 



तुझको मैं संभल गया हूं लेकिन अंदर से अभी भी टूटा हुआ हूं मेरा मन तो बहुत खुश है तेरे जाने के बाद लेकिन दिल से अभी भी टूटा हुआ हूं इस दिल से खेल तो रहे हो पर जरा संभल के जरा टूटा हुआ है कहीं तुम्हें भी चुभना जाए उसकी याद आई तो कुछ जख्म पुरानी निकले दिल की मूर्ति को कुरेदना सूख जाने निकले शहर में करता था

दुखी शायरी

 हम चाहता सिर्फ एक तुमको अब तुम से ही दूर हैं हम सोचा नहीं कि जिंदगी में कभी ऐसे भी फसाने होंगे रोना भी जरूरी होगा और आंसू भी छुपाने होंगे बहुत दूर आ गए रिश्तो को निभाते निभाते खुद को मिटा दिया अपनों को पाते पाते लोग कहते हैं

 कि हम हंसते बहुत हैं मगर हम थक गए हैं दर्द छुपाते छुपाते वह मेरा दिल बहला कर चले जाते हैं यादों का मेला लगा कर चले जाते हैं जितनी खुशी होती है उनसे मिलकर उससे ज्यादा रुला कर चले जाते हैं जिंदगी में हमेशा नए लोग मिलेंगे कहीं ज्यादा तो कहीं कम मिलेंगे एतबार जरा सोच कर करना मुमकिन नहीं हर जगह तुम्हें हम मिलेंगे वादे पर वह मेरे ऐतबार नहीं करते प्यार करो वह कह गए कि 

सच्ची दोस्ती शायरी

मेरा इंतजार मत करना मैं कहूं भी मुझ पर ऐतबार मत करना वह कहते हैं कि मुझे तुमसे मोहब्बत नहीं बस तुम किसी और से प्यार मत करना बगैर जाने पहचाने इकरार ना कीजिए मुस्कुराकर दिलों पर बार ना कीजिए फूल भी दे जाती है जख्म गहरे पर हर फूल पर हूं 

ना ऐतबार कीजिए यह सच है दोस्तों किसी से प्यार ना करना कभी किसी का ऐतबार ना करना शाम के खंजर अपने ही हाथों में बेदर्दी से अपने दिल पर वार न करना आज रोने को दिल करता है अब भूल जाने को दिल करता है यह दुनिया सताती है उसके नाम से अब तो नामोनिशान मिटाने को दिल करता है कोशिश होनी चाहिए किसी को याद करने की लम्हे तो अपने आप ही मिल जाएंगे कोशिश होनी चाहिए किसी को याद करने की लम्हे तो अपने आप ही मिल जाएंगे वक्त होना चाहिए किसी को मिलने का वहां ने तो अपने आप ही मिल जाएंगे यह आरजू नहीं कि किसी को बुलाएं हम ना तमन्ना है कि किसी को रुलाए हम पर दुआ है

 रब से एक ही जिसको जितना याद करते हैं उसको उतना याद आए हम यादों में रहकर यह एहसास रखना नजरों से दूर सही पर दिल के पास रखना यह नहीं कहते कि साथ रहो दूर ही सही पर या रखना सभी नगमे साथ में गाय नहीं जाते सभी लोग महफिल में भुलाए नहीं जाते कुछ पास रहकर भी याद नहीं आते कुछ दूर रहकर भी भुलाए नहीं जाते दिल का दर्द छुपाना आसान नहीं होता टूट कर फिर मुस्कुराना आसान नहीं होता किसी के साथ दूर तक चल कर देखो अकेले लौट कर आना आसान नहीं होता दर्द आज भी है

दोस्ती शायरी दो लाइन Image

 जख्म भले ताजा नहीं दर्द आज भी है जख्म भले ताजा नहीं झांक कर देख लो सीने में दरवाजा नहीं मेरी हंसी को अगर तुम हंसी समझते हो तो शायद तुम्हें मेरे हालात का अंदाजा नहीं भीड़ में भी तन्हा रहना मुझको सिखा दिया तेरी मोहब्बत ने दुनिया को झूठा कहना सिखा दिया किसी दर्द या ख़ुशी का एहसास नहीं अब तो सब कुछ जिंदगी ने चुपचाप सहना सिखा दिया मोहब्बत की कहूं देवी या तुमको बंदगी कह दूं बुरा ना मानो घर हमदम तो तुम्हें जिंदगी कह दूं

 मैं बन जाऊं रे सनम तुम लहर बन जाना वरना मुझे अपनी बाहों में अपने संग ले जाना चाहत बन गए हो तुम इबादत बन गए हो तुम हर सांस में हो आते जाते हो जैसे कि मेरी इबादत बन गए हो तुम पाना और सुना तो किस्मत की बात है मगर चाहते रहना तो अपने हाथों में है कुछ उतर गए हो मेरी रग रग में तुम खुद से पहले एहसास तुम्हारा होता है

 इसमें इस तरह नीलाम हो जाऊं आखरी बोली और मैं तेरे नाम हो जाऊं तेरा पता नहीं पर मेरा दिल कभी तैयार नहीं होगा तेरा पता नहीं पर मेरा दिल कभी तैयार नहीं होगा मुझे तेरे अलावा कभी किसी और से प्यार नहीं होगा मुझे तो तुमसे नाराज होना भी नहीं आता ना जाने तुमसे कितनी मोहब्बत कर बैठा हूं यह मौसम भी कितना अजीब है तेरी याद दिला ही जाता है 


खूबसूरत दोस्ती शायरी

कितना भी रोक लो आंसू को यह आंखों से निकल ही जाता है वह मिली भी तो क्या मिली बनके वफा मिली इतनी तो मेरे गुनाह ना थे जितनी मुझे सजा मिली  किस्मत बदलते देर नहीं लगती रिश्तो को बख्श दीजिए ना कि बड़े-बड़े तोहफे रिश्तो को बख्श दीजिए ना कि बड़े-बड़े तोहफे क्योंकि ताजमहल को दुनिया ने देखा है मुमताज ने नहीं प्यार करने वालों की किस्मत बुरी होती है

 मुलाकात जुदाई से जुडी होती है वक्त मिले तो प्यार की किताब पढ़ लेना हर प्यार करने वाले की कहानी अधूरी होती है प्यार वह नहीं जिसमें रोज बात हो प्यार वह नहीं जिसमें रोज साथ हो प्यार वह है दूरियां कितनी भी हो लेकिन फिर भी दिल में उसी की याद हो इतनी मोहब्बत ना करो कि बिखर जाऊं मैं थोड़ा रूठ भी जाया करो कि सुधर जाऊं मैं अगर हो जाए खता तो हो जाना खफा पर इतना भी ना होना कि मर जाऊं मैं जिंदगी ने मुझे एक ची कुछ  हफ्ता या तेरे है 

साफ‌ ‌तो‌ ‌जिंदगी‌ ‌में‌ ‌छोड़‌ ‌जाती‌ ‌है‌ ‌फिर‌ ‌इंसान‌ ‌क्या‌ ‌चीज‌ ‌है‌ ‌खुद‌ ‌से‌ ‌एक‌ ‌ही‌ ‌सवाल‌ ‌रोज‌ ‌पूछते‌ ‌हैं‌ ‌आखिर‌ ‌चल‌ ‌क्या‌ 
रहा‌ ‌है‌ ‌जिंदगी‌ ‌में‌ ‌लोगों‌ ‌से‌ ‌रिश्ते‌ ‌निभाकर‌ ‌बस‌ ‌एक‌ ‌ही‌ ‌बात‌ ‌सीखी‌ ‌है‌ ‌किसी‌ ‌की‌ ‌हद‌ ‌से‌ ‌ज्यादा‌ ‌फिक्र‌ ‌करोगे‌ ‌तो‌ ‌वह‌ 
इंसान‌ ‌रद्दी‌ ‌के‌ ‌भाव‌ ‌समझने‌ ‌लगेगा‌ ‌अब‌ ‌ना‌ ‌ही‌ ‌किसी‌ ‌का‌ ‌दिल‌ ‌दुखा‌ ‌एंगे‌ ‌और‌ ‌ना‌ ‌ही‌ ‌किसी‌ ‌पर‌ ‌हक‌ ‌जता‌ ‌एंगे‌ ‌और‌ 
यूं‌ ‌ही‌ ‌खामोश‌ ‌रहकर‌ ‌यह‌ ‌दो‌ ‌पल‌ ‌की‌ ‌जिंदगी‌ ‌बिताएंगे‌ ‌ऐ‌ ‌खुदा‌ ‌उनका‌ ‌ख्याल‌ ‌रखना‌ ‌जिनका‌ ‌ख्याल‌ ‌हर‌ ‌वक्त‌ ‌रहता‌ 
है‌ ‌ख्वाहिशें‌ ‌कम‌ ‌हो‌ ‌तो‌ ‌पत्थरों‌ ‌पर‌ ‌भी‌ ‌नींद‌ ‌आ‌ ‌जाती‌ ‌है‌ ‌वरना‌ ‌मखमल‌ ‌का‌ ‌बिस्तर‌ ‌भी‌ ‌चुकता‌ ‌है‌ ‌उन्होंने‌ ‌पूछा‌ ‌हमसे‌ 
तो‌ ‌फिर‌ ‌मैं‌ ‌क्या‌ ‌चाहिए‌ ‌हमने‌ ‌कहा‌ ‌एक‌ ‌मुलाकात‌ ‌है‌ ‌जो‌ ‌कभी‌ ‌भी‌ ‌खत्म‌ ‌ना‌ ‌हो‌ ‌बेस्ट‌ ‌फीलिंग‌ ‌आती‌ ‌है‌ ‌जब‌ ‌कोई‌ 
बिजी‌ ‌हो‌ ‌कर‌ ‌भी‌ ‌बोले‌ ‌यार‌ ‌तेरे‌ ‌से‌ ‌ज्यादा‌ ‌इंपोर्टेंट‌ ‌क्या‌ ‌है‌ ‌मेरे‌ ‌लिए‌ ‌सब‌ ‌कुछ‌ ‌छोड़‌ ‌देना‌ ‌लेकिन‌ ‌कभी‌ ‌किसी‌ ‌का‌ 
भरोसा‌ ‌और‌ ‌उम्मीद‌ ‌मत‌ ‌तोड़ना‌ ‌इस‌ ‌इंसान‌ ‌की‌ 

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post