सबसे बेस्ट दोस्ती शायरी Status

DOSTI KE LIY SHAYARI HINDI दोस्ती के लिए शायरी हिंदी 

कुछ है मेरे पास पर दिल की दवा नहीं दूर वह मुझसे है पर मैं खफा नहीं मालूम है अभी वह प्यार करते हैं मुझसे वह थोड़ा सा जिद्दी है मगर बेवफा नहीं ऐसा जगाया आपने की अब तक ना तो सके यूं रुलाया आपने की महफिल में हम ना रो सके ना जाने क्या बात है

 आप में सनम माना है जबसे तुम्हें अपना किसी के ना हम हो सके दिल के लुट जाने का इजहार जरूरी तो नहीं यह तमाशा शरेबाजार जरूरी तो नहीं मुझे था इश्क तेरी रूह से और अब भी है जिस्म से कोई सरोकार जरूरी तो नहीं होठों पर मोहब्बत के फसाने नहीं आते साहिल पर समंदर के खजाने नहीं आते पलके भी चमक उठती है 



सोते हुए हमारी आंखों को अभी ख्वाब छुपाने नहीं आते ऐसा क्या कह दूं कि तेरे दिल को छू जाए ऐसी किस से दुआ मांगू कि तू मेरी हो जाए तुझे पाना नहीं तेरा हो जाना मन्नत है मेरी ऐसा क्या कह दूं कि यह मन्नत पूरी हो जाए इश्क का जिसको ख्वाब आ जाता है समझो उसका वक्त खराब आ जाता है महबूब आए या ना आए पर तारे गिनने का तो हिसाब आ ही जाता है 

मतलब को दिखाया नहीं जाता दिल में लगी आग को बुझाया नहीं जाता लाख जुदाई हो मगर जिंदगी के पहले प्यार को भुलाया नहीं जाता दिल के कोने से एक आवाज आती है हमें हर पल उनकी याद आती है दिल पूछता है बार-बार हमसे जितना हम याद करते हैं उन्हें क्या उन्हें भी हमारी याद आती है दिल ही दिल में तुझे प्यार करते हैं चुपचाप मोहब्बत का इजहार करते हैं

 जानते हैं कि नसीब में नहीं तू मेरे तुझे पाने की कोशिश फिर भी बार-बार करते हैं निकलते हैं आंसू जब मुलाकात नहीं होती टूट जाता है दिल जब बात नहीं होती तेरी जान की कसम ए मेरे दोस्त तुझे याद ना किया हो ऐसी कोई रात नहीं होती दुनिया की भीड़ में चाहे इंसान सब कुछ भूल जाए कितनी ही मौज मस्ती में खो जाए बस अकेले में वह उससे ही याद करता है 

जिससे दिल से प्यार करता है धोखा ना देना मुझ पर एतबार बहुत है यह दिल तेरी चाहत में तलब गार बहुत है तेरी सूरत ना देखें तो कुछ दिखाई नहीं देता तेरी सूरत ना देखें तो कुछ दिखाई नहीं देता हम क्या करें जिससे हमें प्यार बहुत है रोते रहे हम रात भर पर फैसला न कर सके रोते रहे हम रात भर पर फैसला न कर सके तुम याद आ रही है या मैं याद कर रहा हूं तेरे ख्याल से खुद को छुपा कर देखा है बिल्लू और नजर को रुला रुला कर देखा है तू नहीं तो कुछ भी नहीं तेरी कसम मैंने कुछ पल तुझे भुला कर देता है

 साहिल पर खड़े खड़े हमने शाम कर दी अपने दिल और दुनिया आप के नाम कर दी यह भी न सोचा कैसे गुजरेगी जिंदगी बिना सोचे समझे हर ख़ुशी आपके नाम कर दी वादा ना करो अगर तुम निभा ना सको चाहो ना उसको जिसे तुम पा ना सको दोस्त तो दुनिया में बहुत होते हैं दोस्त तो दुनिया में बहुत होते हैं पर एक खास रखो जिसके बिना तुम मुस्कुरा ना सको हर एक मुस्कुराहट मुस्कान नहीं होती नफरत हो या मोहब्बत आसान नहीं होती आंसू गम के और खुशी के एक जैसे होते हैं

 इनकी पहचान आसान नहीं होती अगर मुझसे मोहब्बत नहीं तो रोते क्यों हो अगर मुझसे मोहब्बत नहीं तो रोते क्यों हो तन्हाई में मेरे बारे में सोचते क्यों हो अगर मंजिल जुदाई है तो जाने दो मुझे लौट के कब आओगे पूछते क्यों हो जब उनकी गली से गुजरता हूं मेरी आंखें एक दस्तक दे देती हैं जब उनकी गली से गुजरता हूं मेरी आंखें एक दस्तक दे देती हैं दुख यह नहीं वह दरवाजा बंद कर देते हैं दुख यह नहीं कि वह दरवाजा बंद कर देते हैं खुशी यह है कि वह अभी मुझे पहचान लेते हैं

 सारी रात ना सोए हम रातों को उठ कर कितना रोए हम बस एक बार मेरा कसूर बतादे रब्बा इतना प्यार करके भी क्यों ना किसी के हुए हम हर फूल की अजब कहानी है चुप रहना भी प्यार की निशानी है कहीं कोई शक नहीं फिर भी क्यों यह एहसास है लगता है दिल का टुकड़ा आज भी उसके पास है बिखरे हुए रिश्ते की कीमत क्या जब तूने वाला ही ना जानता हो बिखरे हुए रिश्ते की कीमत क्या जब तोड़ने वाला ही ना जानता हो बेवफा से प्यार की उम्मीद ही क्या जब वो निभाना ही ना जानता हो दर्द होता है मगर शिकवा नहीं करते दर्द होता है

 मगर शिकवा नहीं करते कौन कहता है कि हम वफा नहीं करते आख़िर क्यों नहीं बदलती तकदीर आशिक की क्या मुझ को चाहने वाले मेरे लिए दुआ नहीं करते ना रूठना हमसे हम मर जाएंगे ना रूठना हमसे 

हाल में गुजर जाता है रात को भी ख्याल तेरा ही आता है कभी यह ख्याल इस तरह बढ़ जाता है कि आईने में भी तेरा ही चेहरा नजर आता है अधूरे मिलन की आस है जिंदगी सुख-दुख का एहसास है जिंदगी फुर्सत मिले तो ख्वाबों में आया करो आपके बिना बड़ी उदास है

 जिंदगी उसकी याद हमें बेचैन बना जाती है हर जगह हमें उसकी सूरत नजर आती है कैसा हाल किया है मेरा आपके प्यार में नींद भी आती है तो आंखे बुरा मान जाते हैं सिर्फ इशारों में होती मोहब्बत अगर इन अल्फाजों को खूबसूरती कौन देता सिर्फ इशारों में होती मोहब्बत अगर इन अल्फाजों को खूबसूरती कौन देता बस पत्थर बन कर रह जाता ताजमहल अगर इश्क इसे अपनी पहचान नहीं देता बदलना नहीं आता

 हमें मौसम की तरह हर एक रुत में तेरा इंतजार करते हैं बदलना नहीं आता हमें मौसम की तरह हर एक रुत में तेरा इंतजार करते हैं तुम ना समझ सकोगे जिसे क़यामत तक तुम्हारी कसम तुम्हें इतना प्यार करते हैं मेरी बस एक तमन्ना थी जो हसरत बनकर रह गई कभी तुमसे दोस्ती थी 

अब मोहब्बत बन गई कुछ इस तरह शामिल हुए तुम जिंदगी में सिर्फ तुझे ही सोचते रहना आदत बन गई बनाने वाले ने दिल कांच का बनाया होता तोड़ने वाले के हाथ में जख्म तो आया होता जब भी वह देखता अपने हाथों को उसे हमारा ख्याल तो आया होता



हर खुशी आएगी पहले गम उठाना सीख लो रोशनी पानी है तो फिर घर जलाना सीख लो लोग मुझसे पूछते हैं शायरी कैसे करूं मैं यह कहता हूं कि किसी से दिल लगाना सीख लो एक शाम आती है तुम्हारी याद लेकर एक शाम जाती है 

तुम्हारी याद देकर पर मुझे तो उस शाम का इंतजार है जो आए तुम्हें साथ लेकर रात को रात का तोहफा नहीं देते दिल को जज्बात का तोहफा नहीं देते देने को हम आपको चांद भी दे दे मगर चांद को चांद का तोफा नहीं देते तुझसे मिलने की बेताबी कब अंजाम कैसे भुला दूं कि तुझसे मिलने की बेताबी कब अंजाम कैसे भुला दूं तेरे लबों की हंसी और आंखों का जाम कैसे भुला दूं दिल तो हमारा भी तड़पता है 



Post a Comment (0)
Previous Post Next Post