सच्चे प्यार की कदर शायरी

सच्चा सच्चा प्यार की शायरी हिंदी SACHA SACHA PAYAR KI SHAYARI HINDI 

 वह लोग जो अपनों को ही धोखा देते हैं अगर इस दुनिया में खुश रहना है तो एक बात याद रखना तुम्हारे रोने से यहां किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता निभाने वाला आपकी हजार गलतियां माफ कर देगा और छोड़कर जाने वाला आपकी छोटी सी गलती पर भी आपको छोड़ कर चला जाएगा हर किसी के नाम पर नहीं रुकती धड़कन ए दिलों के भी कुछ उसूल हुआ करते हैं 




प्रेम हवा की तरह होना चाहिए जो खामोश हो लेकिन हमारे आस-पास ही रहे कभी-कभी रिश्तो की कीमत वह लोग समझा देते हैं जिनसे हमारा कोई रिश्ता नहीं होता है इतनी मोहब्बत हो को मजबूरियों खा गई और जो कुछ रिश्ते बचे थे उन्हें दूरियां खा गईमानते वक्त उन्हें मनवा लेता है

 जीवन में पछतावा करना छोड़ो कुछ ऐसा करो कि तुम्हें छोड़ देने वाले पछताए नींद भी क्या चीज है अगर आए तो सब कुछ भुला देती है और ना आए तो सब कुछ याद दिला देती है बहुत खास होते हैं वह लोग जो आपकी आवाज से आपकी खुशी और दुखी का अंदाजा लगा लेते हैं 

आज तो जंजीर हर एक के हाथों में है कोई फेसबुक तो कोई व्हाट्सएप में गिरफ्तार है उम्र भर बोझ उठाया उसके लिए और लोग तारीफ तस्वीर की करते हैं दोस्त दवा से भी ज्यादा अच्छे होते हैं एक्सपायरी डेट नहीं होते अगर खुश रहकर जीना है तो अकेले जीना आखिरी वक्त तक कोई भी साथ देने वाला नहीं होता अगर तुम उस वक्त मुस्कुरा सकते हो जब तुम पूरी तरह से टूट चुके हो तो यकीन कर लो दुनिया में तुम्हें कभी अभी कोई तोड़ नहीं सकता

 किसी का असली रंग कभी सामने आता है जब हम उसके मतलब के नहीं रहते रहोगे अगर तू ही रास्ते मिलेंगे मंजिल की फितरत है खुद चलकर नहीं आती आने वाले कल से नहीं डरता क्योंकि मैंने बीता हुआ कल देखा है असल में वही जीवन की चाल समझता है जो सफ़र में धूल को गुलाल समझता है कोई भी लक्ष्य मनुष्य के साहस से बड़ा नहीं हारा वही जो लड़ा नहीं यह जरूरी नहीं आपकी उम्र क्या है जरूरी यह है कि आपकी उम्र की सोच रखते हो आपके कर्म ही आपकी पहचान है 

वरना एक नाम के हजारों इंसान हैं सीखना बंद तो जीतना बंद होना है तो कदर है जब जमीर गुलामी हो जाए तब ताकत कोई मायने नहीं रखती रास्ता दोगुनी हो जाती है जब जिंदगी दांव पर लग जाती है इंसान की पसंद करे तो बुराई नहीं देता नफरत करे तो अच्छा ही नहीं देता मुश्किलों का आना है उनमें से हंसकर बाहर आना है

 अगर आप सही हो तो साबित करने की कोशिश मत करो बस सही बने रहो गवाही वक्त खुद देगा इंसान के गुरुर की औकात बस इतनी सी है ना पहली बार खुद महा पाता है ना ही आखरी बार खुद नहा सकता है हर चीज उठाई जा सकती है सिवाय गिरी हुई सोच के जिंदगी दोस्तों से नापी जाती है तरक्की दुश्मनों से चैन से जीने के लिए चार रोटी और दो कपड़े ही काफी है पर बेचैनी से जीने के लिए चार मोटर दो बंगले और तीन पैक कम है हाथ में टच फोन स्टेटस के लिए अच्छा है

 सबके टच में रहो जिंदगी के लिए अच्छा है चाहत और मैं जिंदगी तुम्हारी जादू है तेरी हर बात में याद बहुत आते हो दिन और रात में कल जब देखा मैंने सपना रात में तब भी आपका ही हाथ था मेरे हाथ में मेरी हर ख्वाहिश तुम हो मेरी चाहत मेरा प्यार तुम हो तुम ना समझ पाओ शायद इस बात को पर मेरी जिंदगी मेरे जीने की वजह तुम हो समंदर की चाहत में कहीं दरिया को भूल ना जाना तुम बेशक लाख दर्द सहना पर किसी अपने को नाभि बाजार रुलाना तुम हर रिश्ते पर नाज करो कल जितना भरोसा था उतना आज भी करो रिश्ता वह नहीं जो खुशी और गम में साथ दें रिश्ता वह है

 जो अकेलेपन में भी एहसास दे क्या मांगू खुदा से तुम्हें पाने के बाद किसका करूं इंतजार तेरे आने के बाद क्यों इश्क में जान लुटा देते हैं लोग मैंने भी यह जाना तुमसे इश्क करने के बाद हमें हजारों से प्यार करने की ख्वाहिश नहीं हमें हजारों से प्यार करने की ख्वाहिश नहीं बल्कि हम तो हजार तरीकों से तुम ही प्यार करना चाहते हैं तुम मानो या ना मानो जो मोहब्बत तुमसे की है

 वह न किसी से की थी और ना करेंगे ना जाने मोहब्बत में कितने अफसाने बन जाते हैं जिसको भी जलाती है कुर्बानी बन जाते हैं कुछ हासिल करना ही इसकी मंजिल नहीं कुछ हासिल करना ही इसकी मंजिल नहीं कुछ लोग दीवाने बन जाते हैं तोड़ दो ना वो कसम जो खाई है 

कभी-कभी याद कर लेने में क्या बुराई है याद आपको किए बिना रहा भी नहीं जाता दिल में जगह आपने ऐसी जो बनाई है जब आपका नाम जुबान पर आता है पता नहीं क्यों दिल मुस्कुराता है तसल्ली होती है मन को कोई तो है अपना जो हंसते हुए हर वक्त याद आता है कुछ रिश्ते ऊपर वाला बनाता है कुछ रिश्ते लोग बनाते हैं वह लोग बहुत खास होते हैं जो बिना रिश्ता रिश्ता निभाते हैं

 यूं नजर की बात की  तुम कैसे तुझे सपना कहूं हकीकत हो तुम कैसे तुझे सपना कहूं तेरे हर दर्द को अब मैं अपना कहूं सब कुछ कुर्बान है मेरे यार तुझ पर कौन है तेरे सिवा जिसे मैं अपना कहूं इतनी बड़ी दुनिया में कोई सहारा नहीं अपनों की भीड़ में कोई हमारा नहीं कदम लड़खड़ाए तो उनका दामन थाम लिया कदम लड़खड़ाए तो उनका दामन थाम लिया वह भी हंसकर बोले दोस्त यह दामन तुम्हारा नहीं आंसू छुपा रहा हूं तुमसे दर्द बताना नहीं आता आंसू छुपा रहा हूं



 तुमसे दर्द बताना नहीं आता बैठे-बैठे भीग जाती है पल के दर्द छुपाना नहीं आता उन्होंने खुद ही जुबान को मोड़ दिया नादानी में हमारा दिल तोड़ दिया अब तो हमारे आंसू भी नहीं रुकते उनकी याद में क्योंकि अपनों ने ही हम से मुंह मोड़ लिया वह दिल तोड़ के जाने वाले दिल की बात बताते जा अब मैं दिल को क्या समझाऊं मुझको भी समझा तेजा वो किस्मत में नहीं मेरे फिर भी हम उससे ही याद करते हैं

 काश वह हमें मिल जाए हम रब से रोज यही फरियाद करते हैं वह बेवफा है तो बेवफा ही सही मैं अपनी वफा निभा करूंगा वह मेरी मौत की वजह बनेगी फिर भी मैं उसके लिए दुआ करूंगा यह भरोसा था कि वह मेरे हैं चलो यह भरोसा भी टूट गया बहुत दिनों से संभाल कर रखा था जो हमने चलो आज दिल भी टूट गया एक अजब सी जंग छिड़ी है तन्हाई के आलम में आंखें कहती हैं सोने दे और दिल कहता है रोने दे सुना है वह कह कर गए हैं कि हम तो सिर्फ तुम्हारे ख्वाबों में आएंगे सुना है वह कह कर गए कि अब तुम सिर्फ तुम्हारे ख्वाबों में आएंगे कोई कह दे उनसे कि वह वादा कर ले हमसे जिंदगी भर के लिए हम सो जाएंगे  

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post