SHAYARI HINDI SHAYARI शायरी हिंदी शायरी

 shayri hindi shaayri शायरी हिंदी शायरी 

तुम जान मेरी ही हो मेरी ही रहना जान से ज्यादा चाहते है आपको हर खुशी से ज्यादा मांगते है आपको 

अगर कोई कहे प्यार की कोई हद है तो उस हद से भी ज्यादा चाहते है हम आपको जाने मन मेरी सुख गए फूल पर बहार वही है दूर रहते है पर प्यार वही है 



जानते है हम मिल नहीं पा रहे है आपसे मगर इन आखो में मोहब्बत का इतजार वही है ख्याल रखा करो जान अपना 

तेरे इशक में डूब कर कतरे से दरिया हो जाओ में तुझसे शुरू होकर तुझ में ही खत्म हो जाऊ न महीनो की गिनती है न सालो का हिसाब है 

मोहब्बत आज भी तुमसे बेपनाह बे हिसाब है हमने कब चाहा तुम्हारी बाहो के सहारे मिले मेरे सच्चे प्यार की पहचान है तू उनकी हर बात में सुकून है हर सास में खुसी है मुझे नहीं पता की तुम मुझे कितना चाहते हो मगर सुन लो हम बस तुम्हे ही चाहते है 

और अपनी जान से ज्यादा चाहते है दिल के इतने साफ हो तुम तभी तो खास हो तुम 

जो मोहब्बत तुमसे की वो ना किसी से की वो ना किसी से की थी और ना करेंगे हम  हमें हजरो से प्यार करने की ख्वाहिश नहीं बल्कि हम तो हजार तरीका से तुम्हे ही प्यार करना चाहते है 

तुम मानो या ना मानो जो मोहब्बत तुमसे की है वो ना किसी से की थी और ना करेंगे ना कभी बदले ये लम्हा ना बदले ये ख्वाहिश हमारी हम दोनों ऐसे ही रहे एक दूसरे के जैसे तुम चाहत और में जिंदगी तुम्हारी जादू है तेरी हर एक बात में याद बहुत आते हो दिन और रात में कल जब देखा मेने सपना रात में 

तब भी आपका ही हाथ था मेरे हाथ में मेरी हर खवाहिश तुम हो मेरी चाहत मेरा प्यार तुम हो तुम समझ ना पाओ शायद इस बात को पर मेरी जिंदगी मेरे जीने की वजह तुम हो 

तुम्हारी तो एक नजर ने हमें नीलाम कर दिया है हमें देख कर तस्वीर तुम्हारी तुम्हे याद करते  है दिल में ऐसी तड़प है तुमसे दूर रहकर की हर पल तुमसे फरियाद करता हु 

की हर पल तुमसे मिलने की फरियाद करता हु उदास नहीं होना क्यों की में साथ हु सामने ना सहीं हु लेकिन आसपास हु पलको को बंद कर जब भी दिल में दिखोगे में हर पल तुम्हारे साथ हु में हर पल तुम्हारे ही साथ हु तुमको जान से ज्यादा चाहते है जान से जयादा चाहते है जान 

पहली पहली सी मुलाकात थी पहली पहली सी बात थी बात क्या करते कुछ खबर ही ना थी शायद यही पहले प्यार की पहली शुरुआत थी 

तुम को तो जान से प्यार बना लिया दिल को सुकून आँख का तारा बना लिया अब तुम साथ दो या ना दो तुम्हारी मर्जी हमने तो तम्हे जिंदगी का सहारा बना दिया 

सजते दिल के तराने बहुत है जिंदगी जीने के बहाने बहुत है आप हमेशा मुस्कुराते रहो आपकी मुस्कुराहट के दीवाने बहुत है तेरे गम को रूह में उतार लू 


जिंदगी तेरी चाहत में सवार लू मुलाकात हो तुमसे कुछ इस तरह तमाम उम्रः बस एक मुलाकात में गुजार लू 

हर लम्हा तेरी याद का पैगाम दे रहा है अब तो तेरा इशक है जाने मन 

चुप चुप कर क्यों पढ़ते हो अल्फाजो को मेरे सीधे दिल ही पढ़ लो सासो तक तुम ही हो मदहोस मत करो मुझे अपना चेहरा दिखा कर मोहब्बत अगर चेहरे से होती है खुदा दिल नहीं बनता है 

सासे है भी है बस दिल तुम्हे दे बैठी हु अजीब से दोराहे पर हूँ पर तुम पर जा बैठी 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ