HINDI BEST SHAYARI 2021 बेस्ट शायरी हिंदी

 HINDI BEST  SHAYARI  2021 बेस्ट शायरी हिंदी 

हर पल तेरे साथ जीना है हमें जान है अगर यकीन तो एक नजर देख लो हमारी नजरो में ये आइना वो है जिसमे बसी है सिर्फ तस्वीर तुम्हारी तेरी मोहब्बत से मिली है मेरे वजूद को ये शोहरत 

मेरा जिक्र ही कहा था मेरे दास्तान से पहले बहके बहके ही अंदाज ए बया होते है जब आप होते है तो होश कहा होते है वो लम्हा मेरी जिंदगी का बड़ा अनमोल होता है 


जब तेरी बाते तेरी यादो तेरा माहौल होता है सुनो पर क्या चाहती हो मकाम अपना कह तो दिया मेरी जिंदगी मेरी हर ख़ुशी हो तुम 

आप दिल में हो हम फिर भी मिलने  को तरसते है हमें तो सिर्फ आपकी चाहत का नशा है जान तारे भी चमकते है बादल भी बरसते है आप दिल में हो फिर भी हम मिलने को तरसते है 

आती जब याद तेरी तो तेरी यादो में हम खो जाते ही आजकल तुजे सोचते सोचते ही हम सो जाते है तुम्हे पा लेने के आलावा एक और चाहत है मेरी 

में जब भी जन्म लू बस तुमसे ही प्यार करू जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दे उससे ज्यादा प्यार आपको कोई नहीं कर सकता सुना भी कुछ नहीं कहा भी कुछ नहीं 

पर ऐसे बिखरे है जिंदगी की कश्मकश में की टुटा भी कुछ नहीं और बचा भी कुछ नहीं खुल जाता है तेरी यादो का बाजार सुबह सुबह और हम उशी रौनक में पूरा दिन गुजार देते है 

आओ आज हम एक वादा करे जहा भी रहे तुम हमारे रहो हम तुम्हारे रहे दिल में राज छुपा है दिखाऊ कैसे हो गया प्यार आपसे बताऊ कैसे दुनिया कहती है मत लिखो नाम दिल पर 

जो नाम है दिल में उसे मिटाओ कैसे तेरे बगैर इस जिंदगी की हमे जरूरत नहीं है तेरे सिवा हमे किसी और की चाहत नहीं 

तुम ही रहोगे हमेशा इस दिल में किसी और को इस दिल में आने की इजाजत नहीं है दिल से दिल की दुरी नहीं होती काश कोई मज़बूरी नहीं होती है 

मिलने की तमन्ना तो बी बहुत है लेकिन कहते है की हर तमन्ना पूरी नहीं होती है जिंदगी हमारी यु सितम हो गयी ख़ुशी न जाने कहा चल गई

लिखी खुदा ने मोहब्बत सबकी तक़दीर में हमारी बारी आयी तो स्याही खत्म हो गयी 

बेफा से दिल लगा लिया नादान थे हम गलती हमसे हुई क्योकि इंसान थे हम आज जिन्हे नजरे मिलाने में तकलीफ होती है कुछ समय पहले उनकी जान थे हम 

आसुओ तले मेरे सारे अरमान बह गये जिनसे उम्मीद लगाए थे व्ही बेवफा हो गये थी हमे जिन चिरागो से उजाले की चाह वो चिराग ना जाने किन अधेरो में खो गये 

ए बेवफा तेरी बेवफा में दिल बेकरार ना करू अगर तू कह दे तो तेरा इतजार ही ना करू तू वेबफ़ा है तो कुछ इस कदर बेवफा कर की तेरे बाद में किसी से प्यार ही ना करू 

हमरे आसु वो जान माँ सके मोहब्बत की कहानी वो मान ना सके कहा था उन्होने जीना के बाद भी याद आयेगे जीते जी तो वो याद कर ना सके 

वो निकल गए मेरे रस्ते से इस कदर की जैसे की वो मुझे पहचानते ही नहीं कितने जख्म खाय है मेरे दिल ने फिर भी हम उस बेवफा को बेवफा मानते ही नहीं 

बेवफा वो तो खुद थी मगर इल्जाम किसी पर लगाती थी पहले नाम था मेरा उश्के होठो पर अब वो नाम किसी और का लेती है 

कभी साथ ना छोड़ने का वादा करती थी पर अब यही वादा किसी और से करती है 


काश तुम समज सकते मोहब्बत के उसूलो को किसी सासो में समाकर किसे तन्हा  नहीं करते है  वो पीला कर जाम लबो से अपनी  मोहब्बत का अब कहते है की आदत अछि नहीं होती अगर  मेरी चाहते के मुताबिक जमाने की हर बात होती है तो बस में होता तुम होती और सारी रात बरसात होती क

केसा जादू कर दिया है तूने मेरे दिल पर लगता है तूने आखो से प्यार हो गया   तेरी सारी जिंदगी को तेरे नशे में खराब कर दिया इतना नशा है

उसकी अदाओं में से पानी को ले लो मुलाकात दो बात जा रहे हैं कि तेरा दिल दुखाया हमने फिर भी दर्द सह जा रहे हैं

यह कैसी मोहब्बत की हमने हर बात पर खुद को बेवफा कह जा रहे हैं तुझ में ऐसा है क्या तुझसे मिलने की कसरत में

और हां सुन चल निकल पहली फुर्सत जान मोहब्बत की मिट्टी को हिंदुस्तान वह बेवफा है तब भी उसी से मोहब्बत किसी के मुंह में लगना है याद रखना रखोगे उस दिन मुस्कुराते की है की है


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ