दमदार शायरी इन हिंदी LOVE

  दमदार शायरी इन हिंदी 

चंदन सा आदर कुमकुम सी आस्था पुष्पों सा प्रेम और सब्दो का सम्पर्ण लेकर सर्वप्रथम माँ सररवस्ती को नमन करता हु पर आप सभी को प्रणाम करता हु 

आज का अक्सर बड़ा निराला है आज यहाँ नूर बरसने वाला है एक बार जोरदार तालिया बजा दे कार्यक्रम अब सुरु होने वाला है 

बेहतरी पृस्ति के लिए 

 दमदार शायरी इन हिंदी 



बिना प्रकाश के उजाला हो नहीं सकता बिना दिल के कोई दिलवाला हो नहीं सकता जो ना बजाए मेरे कलाकारों के लिए ताली वो कार्यकर्म का दीवाना हो नहीं सकता 

दर्शको को प्रेरित  कुछ इस तरह से करे 

दमदार शायरी इन हिंदी 

करेंसी के लिए पाउंड का किर्केट के लिए ग्राउंड का और कार्यक्रम के लिए तालियों का साउंड का होना बहुत जरुरी 

शायरी आर्गेनाइजर या मेजबान के लिए

कल हो तो आज जिसे महल हो तो ताज जैसा फूल हो तो गुलाब जैसा और कर्द्दन हो तो आप जैसा 

दमदार शायरी इन हिंदी 

और हिंदी शायरी पढ़ने के SHAYARI HINDI SHAYARI शायरी हिंदी शायरी

ना पैसा लगता है ना खर्चा लगता है पिलीज स्माईल कीजिए  ना बड़ा अच्छा लगता है 

उड़ के जाए उसे छक्का कहते है जो भीड़ में लग जाये धक्का कहते है कलाकार ने बता दिया हमको क्यों उसे मंच का इक्का कहते है 

मन मचल के मोर होना चाहिए इस शाम परफॉमेंस दौर होना चाहिय सुनाने हम बहुत कुछ आये है लेकिन आपकी तालियों में भी जोर होना चाहिए 

भाई तू कितना भी ब्यूटीफुल है रूप तेरा वंडरफुल है आज प्रोग्राम तेरा हाउसफुल है क्योकि तू बड़ा पावर फुल है 

पूछता है जब कोई दुनिया में मोहब्बत है कहा मुस्कुरा देता हु और याद आ जाती है माँ 

दमदार शायरी इन हिंदी 

माता के चरणों की धूल किसी चंदन से कम नहीं और आपकी तालियों किसी अभीनंद से कम नहीं इतना सुन के अगर आप बजा दे तालिया तो ऐसा लगे की मेरा प्रयास किसी वंदन से कम नहीं 

समय उसी  का आता है जिसे न कोई अभिमान है वर्ना कहने को तो सब अपने आप में ही भगवान है मेहनत जो करता है बनता है व्ही विद्वान है मेहनत जो करता है वही बनता है विद्वान है वर्ना बाटने को तो सभी के पास बहुत गयान है 


दमदार शायरी इन हिंदी 

जब तक जिंदगी है तब तक छू लेंना आसमान है जब तक जिंदगी है तब तक छू लेना आसमान है वर्ना कहने को तो पेड़ पोधो में भी जान है 

चुप मत रहना दिल में कुछ दबा के खामोश दरिया ही अक्सर तूफान उगलता है गलत फेमिया रही अगर दरम्यान तो रिश्ते नाते घर परिवार सब सुगलता है कह के सुन के मन हल्का कर लेना फिजूल की नाराजगी से कहा काम चलता है दोस्ती करनी है तो जिगर भी मजबूत रखना दोस्त वफ़ा के बदले वफ़ा इतना मजबूत हिसाब कहा मिलता है 

जिंदगी में क्या कमी है भला हाथ सलामत है हाथो में हुनर है तेरी आखो में क्यों नमी है भला ये तो चमकने वाली उम्र है तू डरता किस्से है भला भुत भविष्य वाले डर है तू डरता किस्से है भला भूत भविष्य वाले डर है होसलो के आगे किसकी लगी है भला सब तेरा है बस मेहनत की ही तो कसर है 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ