पानी से तस्वीर कहा बनती है

  लव हिंदी शायरी नई

पानी से तस्वीर कहा बनती है ख्वाबो से तक़दीर कहा बनती है और एक ही जिंदगी है खुल कर जियो यह एक ही जिंदगी है खुल कर जियो यारो कुछ जिंदगी दुबारा कहा मिलती है इश्क करने वालो की किस्मत बुरी होती है मुलाकात जुदाई से जुडी होती है और कभी वक्त मिले तो इश्क की किताब पढ़ लेना और कभी वक्त मिले तो इश्क पढ़ लेना इश्क करने वालो की किस्मत हम तो हमेशा तुम्हारा थे आज तुम भी हमारे होते 

किस तरह का इश्क कर रहे है हम की ना जाने किस तरह का इश्क कर रहे हम जो हमारे हो नहीं सकते उसी पर मर रहे हम मत पूछो यारो हमने कैसे कैसे चेहरे देखे है मत पूछो यारो हमने कैसे कैसे चेहरे देखे जो खुद जित नहीं पाते वो हमे हारने निकले माना उसने मुझे दगा दिया जिंदगी के रास्ते में अकेला छोड़ दिया पर एक फायदा हुआ उश्के जाने से की ओरो से नहीं खुद से प्यार करना सिख लिया 

तुमने कहा की मेरी कुछ हैसियत नहीं गरीब में  ध्यान रखता अगर कोई मुझे अपना बना ले तो में दुनिया की खुसिया खरीद सकता हु अरे हम कहा आपके बराबर आप तो हुसन महताज हो और क्या आपको फूल की क्या जरूरत आप तो खुद ही गुलाब हो किस किस को रग लगाये साब  किस किस को रग लगाये साब यहाँ हर कोई पीछे से रग बदलता है की जो इंसान गुसे में कहता की फोन मत करना मेसेज मत करना और छोड़ दो मुझे चले रहा से यकीं मन्ना उसी सबसे ज्यादा तुम्हारी जरूरत है 

इतना तो पूछ सकता हु की कैसे हो मुझे इसे फर्क नहीं पड़ता की अब की अब तुम किसके हो सभी को खलता मेरा मशहूर होगा गुना है की खुद के पेरो पे खड़ा होउगा 

की कुछ दोस्तों की शक्ल में आज तिनके साब बैठे की में अब अकेला ही अच्छा हु मेरी जरूरतों तो पूरा करने के लिए मेरे घर में माँ बाप बैठे है  ना इलाज है इसका ना कोई गवाई है अरे देख इश्क तेरे टकर की गवाई आई है  मेरी मोहबत की बस इतनी सी कहानी है मेरी हर गलती गुना और उनकी हर गलती नादानी है 


खाली सड़के और घर में पूरा परिवार देखा वर्षो बाद आज मेने इतियार देखा   इश्क प्यार मोहबत एक नचा है और में नचे से दूर रहता हु   वो हम किसी के ख्यालो में खो जाते है एक पल की दुरी और हो जाते है कोई हमे इतना बता दे की बस हम ही ऐसे है या प्यार करने के बाद सब बदल जाते है

तजुर्बे ना पुछु हमसे  जिंदगी के मबुब को छोड़कर दूसरी से इश्क लड़ा रहे हम   जहा हो जैसे हो खुश रहना दोस्तों तुम्हारा मिलना नहीं बोलना जरुरी है    भूल जा वर्ना इस गम के साथ सारी पूरी उम्र बीत जायेगी   हम तो हमेशा तुम्हारे थे आज तुम भी हमारे बनके तो देखो  भाई पहली मोब्हत कदमे की तरह होती है पहली मोहब्त मुकदमे की तरह होती है ना खत्म होती है ना इंसान को बाइज्जत वरि करती है 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ